ऐसा कोई Shehar नहीं, जहा अपना कहर नहीं, ऐसी कोई गली नहीं जहा अपनी चली नहीं..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *