फ़िक्र तो तेरी आज भी है..
बस .. जिक्र का हक नही रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *