न जाने सालों बाद कैसा समां होगा,
हम सब दोस्तों में से कौन कहा होगा,
फिर अगर मिलना होगा तो मिलेंगे ख्वाबों मे,
जैसे सूखे गुलाब मिलते है किताबों मे.

तक़दीर लिखने वाले एक एहसान करदे,
मेरे दोस्त की तक़दीर मैं एक और मुस्कान लिख दे,
न मिले कभी दर्द उनको,
तू चाहे तो उसकी किस्मत मैं मेरी जान लिख दे.

1. इजाज़त हो तो तेरे चहेरे को देख लूँ जी भर के,
मुद्दतों से इन आँखों ने कोई बेवफा नहीं देखा..

2. दिल भर गया हो तो मना करने में डर कैसा,
मोहब्बत में बेवफाओं पर मुकदमा कहाँ होता है..

3. शिकायतों की पाई-पाई जोड़कर रखी थी मैंने,
उसने गले लगाकर सारा हिसाब बिगाड़ दिया..

 

सदीयो से जागी आँखो को एक बार सुलाने आ जाओ,
माना की तुमको प्यार नहीं नफरत ही जताने आ जाऔ,
जिस मोङ पे हमको छोङ गये हम बैठे अब तक सोच रहे,
क्या भुल हुई क्यो जुदा हुए बस यह समझाने आ जाओ..

1. कभी तो आओ मेरे दर्द की तस्वीर देखने,
इसे बनाने वाले हाथ बेशक मेरे थे पर कारीगरी तुम्हारी थी..

2. इक छोटी सी ही तो हसरत है, इस दिल ए नादान की,
कोई चाह ले इस कदर कि, खुद पर गुमान हो जाए..

3. तैरना तो आता था हमें मोहब्बत के समंदर में लेकिन,
जब उसने हाथ ही नहीं पकड़ा तो डूब जाना अच्छा लगा..

हर नज़र में एक कोशिस होती है,
हर दिल में एक चाहत होती है,
मुमकिन नहीं हे हर एक के लिए ताजमहल बनाना,
क्योकि हर एक के दिल में चार – पांच मुमताज़ होती है..

1. आज अजीब किस्सा देखा हमने खुदखुशी का,
एक शख्स ने ज़िन्दगी से तंग आकर महोब्बत कर ली..

2. कल क्या खूब इश्क़ से मैने बदला लिया,
कागज़ पर लिखा इश्क़ और उसे ज़ला दिया..

3. एक हमला हमारे दिल पे भी करदो,
तुम्हरी यादें अक्सर यहाँ घुसपैठ करती हैं.

 

मेरी हर खुशी हर बात तेरी है,
साँसों मे छुपी ये हयात तेरी हे,
दो पल भी नही रह सकते तेरे बिन,
धड़कनो की धड़कती हर आवाज़ तेरी है..

Page 10 of 10« First...8910