एक बार संता और बंता दोनों एक दुकान पर गए। वहाँ सब लोगों को अपने काम में व्यस्त देख कर बंता ने 3 चॉकलेट चुरा लिए।

जब दोनों बाहर आये तो बंता अपनी ढींगे हांकने लगा कि वो बहुत चालाक है। उसने 3 चॉक्लेट चुराए और किसी को पता भी नहीं लगने दिया। तुम ऐसा नहीं कर सकते।

यह सुनकर संता को भी गुस्सा आ गया और बोला, “चलो मैं तुम्हें इससे भी बढ़िया चीज़ दिखाता हूँ।”

वो दोनों वापिस अंदर चले गए। अंदर जाकर संता ने दुकानदार से कहा, “क्या तुम जादू देखना चाहते हो?”

दुकानदार ने कहा, “हाँ, ठीक है।”

संता: तो फिर मुझे एक चॉकलेट दो।

दुकानदार ने संता को चॉकलेट दी और संता ने वो चॉकलेट खा ली और दूसरी चॉकलेट मांगी। दुकानदार ने दूसरी चॉकलेट भी दे दी तो संता ने उसे भी खा लिया। अब संता ने दुकानदार से तीसरी चॉकलेट मांगी और वो भी खा ली।

दुकानदार ने पूछा, “इसमें जादू कहाँ है?”

संता: मेरे दोस्त की जेब देखो तो तुम्हें तुम्हारी तीनों चॉकलेट वापिस मिल जाएँगी!

एक बार संता नौकरी के लिए इंटरव्यू के लिए गया।

इंटरव्यू के लिए एक लेडी बैठी थी।

लेडी ने संता से पूछा: आप शराब पीते हो??

संता: हाँ।

लेडी: कितनी?

संता: करीब 6 पैग रोज के।

लेडी: ओह! 6 पैग कितने के होते हैं?

संता: करीब 1000 रुपये के।

लेडी: कब से पी रहे हो?

संता: करीब 14 साल से।

लेडी: ओह! इसका मतलब आप रोज 1000 रुपये के हिसाब से महीने के 30000 रुपये शराब में उड़ाते हो, मतलब साल के 360000 रुपये। इस हिसाब से तुमने पिछले 14 साल में शराब पर करीब 50 लाख रुपये उड़ा दिए। क्या तुम जानते हो 50 लाख रुपये में तुम एक BMW खरीद सकते थे।

संता: क्या आप भी पीती हैं?

लेडी: नहीं मैंने कभी हाथ तक नहीं लगाया।

संता: चल फिर दिखा तेरी BMW कहाँ है?

एक बार एक आदमी था। जिसने अपनी सारी ज़िन्दगी बहुत काम किया और बहुत पैसा कमाया। पैसा होने के बावजूद भी वो बहुत कंजूस था। उसे अपनी ज़िन्दगी में सबसे ज्यादा प्यार अपने पैसे से था। यहाँ तक कि उसने अपनी पत्नी से भी यह वायदा लिया था की जब वो मर जायेगा तो उसका सारा पैसा उसके साथ उसकी कब्र में दफना देना।

उसकी पत्नी ने भी उससे वायदा कर दिया कि जब वो मरेगा तो वो ऐसा ही करेगी।

कुछ दिनों बाद आदमी की मौत हो गयी। आदमी को ताबूत में लिटाया गया और जब सब लोग उस ताबूत को दफ़नाने लगे तो पत्नी ने उनको रुकने को कहा।

सब रुक गए तभी उस आदमी की पत्नी एक डिब्बा लेकर आई और उसे ताबूत में रख दिया। सब लोग यह देख कर हैरान थे कि वो ऐसा क्यों कर रही है। पति तो अब मर चुका है तो अब सारा पैसा पत्नी का ही है फिर भी वो डिब्बा ताबूत में रखना चाहती है।

पत्नी ने सब की बात सुनी और बोली, “मैं एक अच्छी पत्नी हूँ जो अपने पत्नी की हर इच्छा पूरी करुँगी। मैंने उनसे वायदा किया था कि मैं उनके सारे पैसे उनके साथ ही ताबूत में छोड़ दूंगी।”

किसी ने उससे पूछा, “इसका मतलब तुमने सारे पैसे एक साथ इसमें रख दिए?”

पत्नी ने जवाब दिया, “हाँ बिल्कुल, मैंने उसके सारे पैसे अपने खाते में जमा करवा दिए हैं और अपने पति के नाम का चेक लिख दिया है जो कि इस डिब्बे में है!”

संता ने बंता से पूछा, “तुम खाली पेट होने पर कितने केले खा सकते हो?”

बंता ने कुछ पल सोचकर कहा, “मैं 6 केले खा सकता हूँ।”

संता ने हँसते हुए जवाब दिया, “गलत जवाब दोस्त, पहला केला खा लेने के बाद तुम्हारा पेट खाली कहां रहेगा, इसलिए खाली पेट होने पर तुम केवल एक ही केला खा सकते हो।”

बंता झेंपते हुए घर पहुंचा और जाते ही प्रीतो से सवाल किया, “तुम खाली पेट होने पर कितने केले खा सकती हो?”

प्रीतो ने भी कुछ पल सोचकर कहा, “मैं 4 केले खा सकती हूँ।”

बंता ने निराश स्वर में कहा, “अगर 6 कहती तो एक मस्त चुटकुला सुनाता तुझे।”

शहर में प्रमुख चौराहों पर पुलिस द्वारा सी.सी.टी.वी. लगवाया गया ताकि पुलिस नागरिकों की अच्छी तरह से सुरक्षा कर सके। लेकिन लोग तो बस इसमें भी अपनी सुविधा ढूँढ़ते हैं। इसी तरह एक दिन संता ने सुबह-सुबह पुलिस कंट्रोल रूम में फ़ोन किया।

संता: हैलो, जी मुझे आपकी सहायता चाहिए थी

कंट्रोल रूम: जी बताइए क्या सहायता चाहिए? हम आपकी सहायता के लिए ही हैं।

संता: क्या आपके सी.सी.टी.वी. कैमरे ठीक काम कर रहे है?

कंट्रोल रूम: जी हाँ, बिलकुल।

संता: क्या इसमें गली न 5 नज़र आ रही है?

कंट्रोल रूम: जी हाँ नज़र आ रही है।

संता: क्या उसके पीछे वाली गली भी दिख रही है?

कंट्रोल रूम: जी जनाब ! क्या बात हो गई?

संता: कुछ नहीं ज़रा देख कर बताना छोले-भटूरे वाले की दुकान खुल गई या नहीं?

बंता एक दिन अपने आप ही घर की बत्ती ठीक कर रहा था, तो उसने अपनी बीवी को आवाज़ लगाई, “प्रीतो, सुनती हो”।

प्रीतो: क्या है?

बंता: अरे जरा इधर तो आ।

प्रीतो: लो आ गई, बोलो।

बंता: ये दो तारें है, इनमें से जरा कोई एक को पकड़ो।

प्रीतो: क्यों?

बंता: अरे पकड़ तो सही।

प्रीतो: लो, पकड़ ली एक तार।

बंता: कुछ नहीं हुआ?

प्रीतो: नहीं।

बंता: अच्छा! तो इसका मतलब करंट दूसरी तार में है।

बंता की टूटी हुई टांग देख कर संता,”तुम्हारी टांग कैसे टूट गई?”

बंता: क्या बताऊं यार, कल दारू कम पी थी, इसलिए।

संता: दारू कम पीने से टांग कैसे टूट सकती है?

बंता: सीधी सी बात है, अगर मैंने छक कर पी होती तो मैं ठेके पर ही लुढ़क गया होता। कम पी थी इसलिए घर आने के लिए निकला और रास्ते में गढ्डे में गिर गया।

संता अपने दोस्त बंता के घर डिनर पर आया था, खाना खाकर वह अपने घर जाने लगा तो उसका दोस्त बंता बोला, “आज यही रुक जाओ बाहर बहुत तेज बारिश है।”

संता: ठीक है।

बंता सोने की तैयारी ही कर रहा था कि संता गायब हो गया। लगभग एक घंटे बाद संता वापिस बंता के घर आया।

बंता (हैरानी से): ओये तू कहां चला गया था?

संता: यार वो मैं घर पर जीतो को बताने गया था कि आज बारिश की वजह से मैं तेरे घर ही रहूंगा।

एक दिन संता ने अपनी भाभी को खूब मारा। उसके चिल्लाने की आवाज सुन कर पड़ोसी देखने आ गए और संता से पूछने लगे कि क्या बात हो गयी, इतना क्यों मार रहे हो अपनी भाभी को?

संता(गुस्से में): भाईसाहब ये हमारी पीठ पीछे छुप -छुप के रोज मेरे सभी दोस्तों से बाते करती है।

पडोसी: तुम्हे कैसे पता लगा?

संता: अरे मैं जब भी अपने किसी दोस्त से पूछता हूँ कि वो फ़ोन पर किस बात कर रहे हैं, वो यही कहता है `तुम्हारी भाभी से`।

भारतीय लड़कियां खेलों में अच्छी क्यों नहीं हैं?

क्योंकि, सिर्फ 10% क्रिकेट, हॉकी, टेनिस, बैडमिंटन, शतरंज आदि खेलती हैं बाकि कि 90% तो जानू से खेलने में व्यस्त रहती हैं।

जानू कहाँ हो?

जानू क्या कर रहे हो?

जानू कब आओगे?

जानू आप मुझसे प्यार करते हो न?

जानू किसके साथ हो?

जानू मुझे ये चाहिए।

जानू फिल्म देखने चलें, जानू ये क्या है?

जानू क्या किया दिनभर?

जानू आपने मुझे याद किया न?

जानू कुछ तो बोलो।

जानू मुझे आपकी बहुत याद आ रही है।

जानू ये।

जानू वो।

जानू कुछ नहीं।

“जान ले लो जानू की।”

Page 40 of 132« First...20...394041...6080...Last »