नारी जल की तरह शीतल और तरल होती है ।

पुरुष मिट्टी की तरह ठोस और रुखा होता है ।

और जब दोनों की शादी हो जाती है..

“किचड़ हो जाता है रे बाबा”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *