“मकड़ी भी नहीं फँसती” अपने बनाये जालों में…!!!
;;
;;
;;
“जितना आदमी उलझा है” अपने बुने ख़यालों में…!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *