संता के घर एक बिल्ली रहती थी जिससे वह बहुत परेशान था, एक दिन संता उस से तंग आकर उसे जंगल में छोड़ आता है, परन्तु संता के घर पहुंचने से पहले वह बिल्ली घर लौट आती है!

यह देख संता दुबारा उस बिल्ली को और दूर जंगल में छोड़ आता है, पर फिर वैसा ही होता है और वह बिल्ली फिर वापस घर पहुँच जाती है यह देख संता को बहुत गुस्सा आता है, तो वह इस बार बिल्ली को अपनी गाडी में डाल कर और घने जंगल में ले जा कर छोड़ देता है, और कुछ देर बाद अपनी पत्नी को फ़ोन करता है और पूछता है;

संता: क्या बिल्ली घर आ गई है?

जीतो: हां, वह फिर पहुंच गई है!

संता: ठीक है तो उसे कहो मुझे आकर ले जाए, मैं रास्ता भूल गया हूं!

एक दिन बंता अपने बॉस से मिलने उसके ऑफिस में गया!

बंता: सर मैं अन्दर आ सकता हूँ!

बॉस: अरे बंता, आओ… आओ!

बंता: सर कल हमने अपने घर कि पूरी सफाई करनी है और मेरी बीवी प्रीतो को इस काम के लिए मेरी मदद चाहिए काफी सामान है जो उठाकर इधर उधर करना है इसलिए मुझे…..?

बॉस: बंता देखो हमारे पास पहले ही स्टाफ की कमी है नहीं… नहीं मैं तुम्हें छुट्टी नहीं दे सकता!

बंता: थैंक्यू सर थैंक्यू मुझे आप पर पूरा भरोसा था!

संता और बंता कोई बिजनेस शुरू करने कि सोच रहे थे बहुत चर्चा के बाद उन्होंने ये फैसला किया कि होटल का बिजनेस शुरू करते है!

उन्होंने होटल चलाने के लिए पहले एक अच्छी सी जगह देखी और फिर स्टाफ और अन्य सामग्री जो होटल के लिए आवश्यक होती है सब का प्रबंध किया फिर होटल का उदघाटन किया और काम शुरू कर दिया वो ग्राहकों का इन्तजार करने लगे एक दिन दो दिन… लगातार ऐसे ही 7 दिन बीत गए पर उनके पास कोई ग्राहक नहीं आया… जानते है क्यों?

क्योंकि होटल के प्रवेशद्वार पर लिखा था ‘आगंतुकों का’ आना मना है (विजिटर्स नॉट अलाउड)!

होटल का बिजनेस असफल होने के बाद उन्होंने फिर नया बिजनेस शुरू किया ऑटो गैराज का!

उन्होंने गैराज को बहुत बढ़िया सजाया, गाड़ियों के स्पेयर पार्ट और दूसरे यंत्र एकत्रित कर, उन्होंने जल्दी ही गैराज का काम शुरू कर दिया वो चाहते थे कि उनके गैराज के बाहर बहुत सी गाड़ियाँ आये पर लगातार 7 दिन तक उनके गैराज में एक भी गाड़ी नहीं आयी… जानते है क्यों?

क्योंकि उनका गैराज बिल्डिंग की पहली मंजिल पर था!

Meri deewangi ko galat na samajana. Maine chaha hai tumhe had se badker. Meri zindagi se kabhi dur na jana maine paya hai tumhe kismat ki lakeeron se ladker.

Khushboo ki tarah aapke paas bikhar jayenge,
Sukun bankar dil me utar jayenge.
Mehsoos karne ki koshis to keejiye,
Door hote huye bhi paas nazar aayenge.

Yadon me hum rahen ye ehsas rakhna,
Nazron se door sahi dil ke paas rakhna.
Hum ye nahi kehte humse mila karo,
Par har kadam par hame apne saath rakhna.

Dono aankhon me ashk diya karte hain,
Hum apni neende tere naam karte hain.
Jab bhi palak jhapke aapki,
Samajhna hum apko yaad kiya karte hain.

Aap bade great ho,
Rasgulle ki plate ho,
Jalebi ki tarah streight ho,
Phone karne me late ho,
Phir bhi mere favorite ho.

Page 30 of 430« First...1020...2829303132...405060...Last »